Home Vrat Katha गोपाष्टमी की कथा/gopashtami-ki-katha ebig24blog

गोपाष्टमी की कथा/gopashtami-ki-katha ebig24blog

3 second read
0
42
17,042
gopashtami-vrat-katha

व्रत कथा

गोपाष्टमी की कथा

gopashtami-vrat-katha
कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की अष्ठमी को गोपाष्टमी कहा गया है। इस दिन भगवान श्रीकृष्ण को गायों को चराने वन भेजा गया था। इस दिन प्रातःकाल गायों को स्नान कराकर बछड़े सहित उनकी जल, रोली, अक्षत, मोती, गुड़, धूप-दीप से पूजा करके आरती उतारनी चाहिए। इस दिन गायों के साथ-साथ बछड़े की पूजा का भी बहुत महत्त्व माना गया है। कहा जाता है कि इस दिन गायों को गुड़ खिलाकर उनकी परिक्रमा करने से समस्त मनोकामनाएँ पूर्ण होती हैं। गायों के सायंकाल जंगल से वापस लौटने पर उनको प्रणाम करके उनकी चरणरज को मस्तक पर लगाने से सौभाग्य की वृद्धि होती है।

gopashtami-vrat-katha-pujan
gopashtami-vrat-katha-pujan

कार्तिक शुक्ल प्रतिपदा से लेकर सप्तमी तक भगवान श्रीकृष्ण ने गोवर्धन पर्वत धारण किया था। आठवें दिन इंद्र अहंकार रहित श्रीकृष्ण की शरण में आए तथा क्षमायाचना की। सके बाद कामधेनु ने भगवान कृष्ण का अभिषेक किया। इसी दिन से भगवान कृष्ण गायों की रक्षा करने के कारण गोविन्द नाम से पुकारे जाने लगे। और इसी दिन से यह पर्व गोपाष्टमी के रूप में मनाया जाने लगा। gopashtami-vrat-katha

Load More Related Articles
Load More By ebig24blog
Load More In Vrat Katha

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

शिव पूजन / shiv puja vidhi – shiv puja mantra in hindi

शिव पूजन shiv puja vidhi – shiv puja mantra in hindi भगवान शिव की पूजा करते समय सर्व…