Home Prerak Prasang प्रेरक प्रसंग 2/prerak-prasang in hindi 2 ebig24blog

प्रेरक प्रसंग 2/prerak-prasang in hindi 2 ebig24blog

5 second read
0
1
3,917
prerak-prasang-2-2

प्रभु का सच्चा सेवक

एक लघु कहानी

आज जिस प्रेरक प्रसंग prerak-prasang-2-2 की बात कर रहें । वह है प्रभु का सच्चा सेवक ।

एक बार सीता माता ने हनुमानजी की निष्काम सेवा से प्रसन्न हो उन्हें अपने गले का हीरों का हार इनाम में दिया । हनुमानजी उस हार को लेकर एक तरफ गये और हार में से एक-एक हीरा निकाल-निकालकर । उन्हें फोड़कर, टुकड़ो को हाथ में ले आकाश की और मुह कर देखने लगे । लोगों ने जो देखा, तो वे खिलखिलाकर हँसने लगे ।

आखिर उनमें से एक ने हनुमानजी से इस बारें में पूछा, तो उन्होने उत्तर दिया, ‘‘मैं हीरों को फोड़-फोड़कर यह देख रहा हूँ । कि इनमें कहीं राम है या ये बिना राम के ही है । यदि इनमें राम हों, तो मेरे योग्य है, अन्यथा ये निस्सार हैं ।’’ और तब लोगों को हनुमानजी के सच्चे सेवाभाव की प्रतीति हुई और उनके मुख से ‘धन्य-धन्य’ शब्द निकल पड़े ।

अगर परमपिता परमात्मा की निःस्वार्थ व सच्चे भाव से सेवा प्रार्थना की जाये तो । वह भी अपने भक्त की हर परेशानी में सहायता को तत्पर रहतें है । prerak-prasang-2-2

Load More Related Articles
Load More By ebig24blog
Load More In Prerak Prasang

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

शिव पूजन / shiv puja vidhi – shiv puja mantra in hindi

शिव पूजन shiv puja vidhi – shiv puja mantra in hindi भगवान शिव की पूजा करते समय सर्व…