Home Prerak Prasang प्रेरक प्रसंग 1/prerak-prasang in hindi 1 ebig24blog

प्रेरक प्रसंग 1/prerak-prasang in hindi 1 ebig24blog

2 second read
0
3
2,960
prerak-prasang-in-hindi-1

बुराईयों का दुखद परिणाम

एक लघु कहानी

आज जिस प्रेरक प्रसंग prerak-prasang-in-hindi-1 की बात कर रहें । वह है बुराईयों का दुखद परिणाम ।

उस समय की बात जब रावण मरा हुआ युद्धभूमि में पड़ा था । उसके मृत शरीर को देखने लक्ष्मण जी गये और लोटकर आने पर उन्होंने बताया की रावण में छलनी की तरह असंख्य छिद्र हो रहे हैं । दल के वानरों में जब लक्ष्मण से पुछा की इतने छेद क्यों हुए, तो लक्ष्मण इतना ही कह सके की राम के तीरों की वर्षा से ही हुआ होगा ।

तब वे सब प्रभु रामचन्द्रजी के पास गये । रामजी उनका प्रश्न सुनकर मुस्कराये । उन्होनें कहा, ‘‘तीरों ने नहीं, रावण की बुराईयों ने उसके शरीर को छेदा है और वह महाबलशाली योद्धा अपने पापों के फलस्वरूप मरा है । हे लक्ष्मण ! न शस्त्र किसी को मारते हैं, न शत्रु । मनुष्य स्वयं अपनी बुराईयों से जर्जर होता रहता है और पाप का घड़ा भर जाने पर स्वयं ही नष्ट-भ्रष्ट हो जाता है ।’’

prerak-prasang-in-hindi-1
prerak-prasang-in-hindi-1

इसलिए बड़े विद्यवान, ज्ञानी सन्त कहा करते हैं की हमेशा अच्छे कार्य व समाज की भलाई के कार्य करना चाहीये जिससे आपका अपना जीवन व अपने परिवार के जीवन को सुखमय व्यतित कर सके । prerak-prasang-in-hindi-1

Load More Related Articles
Load More By ebig24blog
Load More In Prerak Prasang

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

सुविचार / suvichar in hindi 171 – anmol vachan in hindi

सुप्रभात आज का विचार suvichar in hindi – anmol vachan in hindi आज का विचार के इस वैज्ञानिक…